lifi kya hai

LIFi क्या है [what is LiFi in Hindi ] और कैसे काम करता है ? 3 reason क्यों जानना चाहिए आपको

हेल्लो friend, क्या आप lifi का नाम अभी अभी सुना है और lifi के बारे में बहुत ही बिस्तार से समझना चाहते है तो ये पोस्ट सिर्फ आपके लिए है. क्युकी आज हम सब मिलकर Lifi क्या है, what is lifi in hindi, advantage of lifi, disadvantage of lifi, working principle of lifi, इत्यादि टॉपिक्स पर चर्चा करने वाले हैं.

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम पंकज है और आप पढ़ रहे है basic in Hindi तो चलिए आज के टॉपिक पर चलते है सीधे बिना समय गवाएं.

Li-fi क्या है ? कैसे काम करता है ?

दोस्तों Li-Fi एक बहुत ही सुन्दर टेक्नोलॉजी है जिसमे light यानि की प्रकाश के माध्यम से data को ट्रान्सफर किया जाता है. इसकी speed इतनी ज्यादा है की आप बिस्वास नही कर सकते है. Li-Fi का अविष्कार Edinburg यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर Mr. Harald Haas ने 2011 में किया था . ये Pure Li-Fi के co-founder है.

“दोस्तों Li-Fi का फुल form Light Fidelity है. इसका उपयोग data transmission के लिए किया जाता है. ये wireless optical network technology के ऊपर काम करता है. यह technology wi-fi से लगभग 100 गुना ज्यादा तेज़ है. इसमे LED यानि की light Emitting Diode के द्वारा data ट्रान्सफर  जाता हैं.”

Li-Fi कैसे काम करता है ? ( how Li-Fi works )

सबसे पहले आपको एक LED Bulb को लगाना होगा जो Lifi का होगा. अब जब भी आपको Li-Fi की जरुरत है आपको light को On करना होगा.

आप जब light area में जायेंगे तो आपका सिस्टम Li-Fi को डिटेक्ट कर लेगा और आप अपने सिस्टम से data transfer कर सकते है. आपने देखा होगा जब आप TV का रिमोट प्रेस करते है तो उसमे से light निकलता है और आपका TV उस command को पढ़ लेता है. जिस काम के लिए आप बटन press करते है वो काम हो जाता है.

इस technology में मुख्यतः ये तीन Components या पार्ट्स का उपयोग किया गया है. Lamp Driver, Led Lamp और Photo detector ये तीन प्रमुख्य components है.

Internet Source lamp driver दोनों आपस में कनेक्ट होते है और internet से आने वाले data led बल्ब में आता है . LED बल्ब में आने वाली light फिर निचे लगे फोटो detector से टकराती है. फिर फोटो detector light में उपस्थित data को आसानी से पढ़ लेती है. इस data को फोटो detector, binary कोड में बदल देता है.

और जैसा की आप जानते है computer और कोई भी इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरण ( Gadggets ) सिर्फ binary नंबर पर ही सिग्नल भेजते है या recieve करते है. यदि आपको binary नंबर के बारे में जानना है तो आप ऊपर binary पर click करके पढ़ सकते है.

उमीद है आप lifi की working principle को समझ गये होंगे, यदि कोई doubt रह जाता है तो आप निचे comment में पूछ सकते है. तो चलिए अब समझते है की wifi और Lifi में क्या अंतर है.

क्या आपने ये पढ़ा ?

  1. internet से पैसा कमाने के 10 तरीके
  2. keyword क्या है ?

LI-Fi और WI-Fi में अंतर

Lifi में data का transmmission light ( प्रकाश ) के माध्यम से होता है जबकि wifi में data का transmmission radio waves के द्वारा होता है.

lifi में data transfer करने के लिए LED बल्ब की जरुरत परती है जबकि wifi में Router की जरुरत परती है.

lifi के इंटरफ़ेस में कोई प्रॉब्लम नही है जबकि wifi के इंटरफ़ेस में कई सारे प्रॉब्लम हैं.

lifi में persent IrDA compliant device है जबकि wifi में WLAN 802.11a/b/g/n/ac/ad standard complaint device होता है.

lifi का इस्तेमाल Aeroplane, समुन्द्र के अन्दर, हॉस्पिटल, operation treater, Office या घर इत्यादि सभी जगहों पर इस्तेमाल किया जा सकता है. जबकि wifi इनमे से कई सारे जगहों पर इस्तेमाल नही किया जा सकता है.

lifi में Interface कम है इस लिए यह नमकीन समुंदरी पानी में भी प्रयोग किया जा सकता है जबकि wifi का interface ज्यादा है इस लिए इसे नमकीन समुंद्री पानी में उपयोग नही किया जा सकता हैं.

lifi के LED का light दीवारों के पर नही जा सकता है इस लिए आप बिना किसी के डर से अपने रूम में सुरक्षित internet का लुफ्त ले सकते हैं. जबकि wifi में radio waves दीवारों के पार भी जाता है जिससे डर रहता है की आपके wifi का कनेक्शन कोई चुरा न ले.

lifi की speed ही इसकी सबसे बरी highlights है क्युकी इसमे आपको 1 Gbps तक की speed मिल सकता है जबकि wifi में 150 Mbps से ज्यादा का speed नही मिल सकता हैं.

lifi के light का frequency wifi के waves से 10 गुना ज्यादा होता है. जबकि wifi की frequency निश्चित होती है ये 2.4 GHz, 4.9 GHz और 5 GHz पर चलती है.

covarage Distance के मामले में lifi थोरा कम परता है यह सिर्फ 10 mts ही है जबकि wifi लगभग 32 mts तक अच्छा covarage देता है. wifi router और antena पर भी निर्भर करता है की कितना दूर यह अच्छा पकर सकता है.

History Of LI-FI ( lifi का इतिहास )

इसके खोजकर्ता के बारे में तो हम ऊपर में जानकारी दे चुके है. तो अब इसके आगे की इतिहास के बारे में बात करेंगे.

सबसे पहले Harald Haas ने हमें बताया की VLC क्या है ? जब भी कभी data को visible light portion से भेजा जाता है, तो उसे VLC अर्थात visible light communication कहा जाता है. सबसे पहले 2011 इन्होने TECH TALK में lifi का प्रदर्सन किया था जिसके बाद ये काफी चर्चा में आ गयी थी.

इसी साल 2011 ही में इन्होने PURE LIFI नमक एक संस्था का उद्घाटन किया जिसके co-founder भी ये है. इसके पहले इस company का नाम Pure VLC था परन्तु lifi के business को बढ़ने के लिए ये company LED Bulb के field में काम करने लगी जिसके बाद इसका नाम बदल दिया गया.

ओक्टुबर 2011 में ही कई सारे Groups of companies मिल के LI-fi Consortium बनाया . इन सभी लोगों का सिर्फ एक ही मकसद था की कैसे लोगों को सबसे तेज़ data tranfer speed दे सके. wifi के सिमित दायरे को कैसे बढाया जाये और जो कमियां wifi में है उनको कैसे दूर किया जाये.

2012 में VLC को lifi के साथ मिला कर एक प्रदंर्सन में दिखाया गया. इसके बाद अगस्त 2013 के एक प्रदर्सन में यह प्रमाणित हो गया की lifi 1.6 Gbps का speed दे रहा है.

Rusian company Stins coman के द्वारा अप्रैल 2014 में एक wireless network बनाया गया जिसका नाम Beam Caster है. फ़िलहाल इसकी speed 1.25 Gbps है. उमीद किया जा रहा है की इसकी speed भविष्य में लगभग 5 Gbps हो जायेगा, या क्या पता तब तक कोई और fi आ जाये ( हा हा हा… ).

ये lifi के बारे में एक छोटा परन्तु बारा धमाका वाला इतिहास था उमीद है आपने इसे enjoy किया होगा. यदि हा, तो फिर देर किस बात की अभी निचे comment में लिख कर हमें बता दीजिये.

इतना सब कुछ पढ़ने के बाद यदि फायेदा और नुकसान की बात न करे तो शायद हम भारतियों को मज़ा नही आता. है ना ….  तो चलिए इसके फायेदे क्या है और इससे नुकसान क्या क्या है इसको भी समझ लेते है.

Li-Fi के फायेदे और नुकसान

सबसे पहले हम लोग फायेदे के बारे में बात करेंगे उसके बाद नुकसान की…

what is lifi in hindi
what is lifi in hindi

Advantage of Li-Fi

जैसा की हमने ऊपर बताया था की यह technology पूरी तरह light यानि की प्रकश के उप्पर चलता है तो इसकी efficiancy यानि की दक्षता इसकी बहुत अधिक होगी. अपने अपने घर और ऑफिस में पहले ही LED बल्ब लगा रखे होंगे.

यदि इसी प्रकश का आपके internet connection में use हो और आप data ट्रान्सफर कर सके तो कितना अच्छा होगा न. एक बात और है जब तक आपको data का प्रयोग करना है तब तक LED बल्ब को जला के रखना परेगा.यदि आपको इससे कोई परेशानी का सामना करना पर रहा है तो आप चाहे तो बल्ब की रौशनी को कम भी कर सकते है.

आप रोज़ अपने दैनिक जीवन में दिन हो यात light के बिना रहना काफी कठिन है, आपके ऑफिस में दिन को भी light की जरुरत है इसलिए जहा जहा प्रकश है वाहा वाहा आप lifi को प्रयोग कर सकते है. चाहे तो वो प्लेन हो समुद्री जहाज हो या फिर और कही.

अब बात आती है सुरक्षा की आपका network कितना सुरक्षित है, तो आपको मैं पहले ही बता चूका हु की lights दीवार के पार नही जाती है. जिसके कारन आपका network और भी ज्यादा सुरक्षित हो सकता हैं.

Disadvantage of Lifi

आपको पता ही है की lifi प्रकश के माध्यम से ही data को ट्रान्सफर कर सकता है इस लिए जब भी आपको जरुरत है. light on या Off करना परेगा.

इसकी रेंज बस एक रूम के अन्दर तक ही रहेगा जब आप सिर्फ एक बल्ब का इस्तेमाल करेंगे.

एक और distubance की आशंका जताई जाती है की जब सूर्य प्रकश रहेगा तब हो सकता है की या थोरा धीमे हो जाये.

चुकी यह नयी नयी आई है तो इसकी technology काफी महंगा है.

5 Reason A Complete knowledge Pack on Artificial Intelligence in Hindi कृत्रिम बिद्धि

मेरी राय इसके बारे में

उमीद करता हूँ आपको ये पोस्ट अच्छा लगा होगा और आपकी खोज पूरी हो गयी होगी lifi क्या है के बारे में? हमने इस पोस्ट में पढ़ा What is LiFi in hindi ? applications of lifi, working principle of lifi, Advantage of lifi and disadvantage of lifi सभी कुछ hindi और आसान भाषा में समझे.

यदि इससे सम्बंधित किसी भी प्रकार का सवाल आपके मन में है तो हमें comment box में लिख भेजे. मैं हमेशा आपकी हेल्प करने में अपनी ख़ुशी समझता हूँ.

यदि पोस्ट पसंद आये तो पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरुर share करे जिससे उनको भी हेल्प हो सके. और इसी प्रकार के टेक्निकल पोस्ट को पढ़ते रहने के लिए हमारे ब्लॉग को subscribe जरुर करे. ताकि सभी notification आपके पास सबसे पहले पहुच सके.

5 thoughts on “LIFi क्या है [what is LiFi in Hindi ] और कैसे काम करता है ? 3 reason क्यों जानना चाहिए आपको”

Leave a Reply